शर्मनाक : बीजेपी सांसद रूपा गांगुली को ममता दीदी के गुंडों ने पहुचाया मौत के करीब !!

4091

शर्मनाक : बीजेपी सांसद रूपा गांगुली को ममता दीदी के गुंडों ने पहुचाया मौत के करीब !!

बीजेपी सांसद रूपा गांगुली अस्पताल में भर्ती, मौत के करीब पहुँच चुकी हैं। उनकी आंखे चली गई हैं और दिमाग में खून के थक्के पड़ चुके हैं, इसकी वजह से रक्त प्रवाह सही प्रकार से नहीं हो रहा। TMC नेता अब्दुल रज़्ज़ाक़ ने रूपा गांगुली को गंदे रूप से द्रौपदी कहा और गाली दी । TMC के गुंडे ने रूपा गांगुली पर ईंटों से वार किया और अधमरा कर दिया। पुलिस वाले देखते रहे । साफ़ है की रूपा गांगुली को उस राज्य की नेता होने की कीमत चुकानी पड़ रही है जिस राज्य में भ्रष्ट सरकार है ।

पश्चिम बंगाल ऐसा राज्य बन चूका है जहां आम आदमी की जान को खतरा रहता है. विपक्ष पर हमला किया जाता है. बंगाल में हिंदुओं को निशाना बनाया जाता है. वहा पर दंगे फ़साद ही लोगों की जिंदगी बन गयी है. कानून प्रवर्तन एजेंसिया TMC के नेताओं की कठपुतली बनकर रह गयी है. आपको बता दे कि आज जो रूपा गांगुली की हालत है उसके जिम्मेदार 22 मई 2016 को उनपर तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों द्वारा किया गया हमला है. 

इसी साल मई में रूपा गांगुली पर पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले में डायमंड हार्बर के पास तृणमूल कांग्रेस समर्थकों ने उनके साथ बदसलूकी की और उनके काफिले पर हमला किया. रूपा गांगुली की गाड़ी पर TMC के गुंडे ने पत्थर फेंके, कुछ महिलाओं ने रूपा के बाल खींचे और गुंडों ने उनका ब्लाउज फाड़ दिया और TMC के गुंडों ने रूपा पर ईंटों से वार किया. यह सब तब हुआ जब रूपा गांगुली कुछ बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ ईश्वरीपुर गांव से लौट रही थीं. इस हमले में रूपा के साथ मौजूद महिलाओं को थप्पड़ जड़ दिए. ये सब होता रहा और पुलिस वाले देखते रहे. मदद की तो सिर्फ कुछ स्थानीय लोगों ने और रूपा के सुरक्षाकर्मी ने.

स्थानीय लोगों का कहना था कि ये हमला पहले से ही प्लान किया गया था. लानत है ममता बनर्जी पर जो अपने गुंडों को इतनी छुट देती है वो किसी महिला की इज्जत पर वार कर देते है. ये पहली बार नहीं है जब रूपा गांगुली पर हमला हुआ हो, इससे पहले भी उनपर 2015 में भी हमला हो चूका है. बेहद शर्मनाक है ममता बनर्जी एक औरत होकर दूसरी औरत पर हमला करवा रही है.

ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल को गुंडों का अड्डा बना दिया है. बंगाल में बढ़ रहे दंगे फसाद की जड़ सिर्फ ममता है. ममता बनर्जी इस ग़लतफहमी में जी रही है कि ये दंगे फसाद करवाकर वो विपक्ष को चुप करा देंगी. लेकिन वो ये नहीं जानती ममता को इस सबकी भुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी. ममता बनर्जी को अब भी सावधान हो जाना चाहिए वरना एक दिन लोगों का सब्र का बाँध टूट जाएगा फिर ममता को बचाने कोई नहीं आएगा.

SHARE